Headlines
Loading...
B.A. FIRST YEAR हिंदी सिनेमा का अध्ययन UNIT 3 CHAPTER -1 हिंदी सिनेमा की अंतर्वस्तु और तकनीकी का विस्तृत अध्ययन NOTES

B.A. FIRST YEAR हिंदी सिनेमा का अध्ययन UNIT 3 CHAPTER -1 हिंदी सिनेमा की अंतर्वस्तु और तकनीकी का विस्तृत अध्ययन NOTES



हिंदी सिनेमा की अंतर्वस्तु

जिस तरह साहित्य समाज का मार्गदर्शक है उसी तरह सिनेमा भी समाज का मार्गदर्शक है 
साहित्य और सिनेमा दोनों में बेहद गहरा संबंध है
सिनेमा की अंतर्वस्तु लोगों को अत्यधिक प्रभावित करता है
सिनेमा हमारे समक्ष नई-नई दृष्टि प्रस्तुत करता है ताकि हम दुनिया 
को नए तरीके से देखें समझे अपने दृष्टिकोण का विकास करें
फ्रांस के दार्शनिक जियदलज ने कहा कि सिनेमा में इतनी ताकत है कि वह 
दर्शनशास्त्र भी बदल सकता है 
इस बदलने का कारण उसकी बौद्धिकता नहीं अपितु भावनात्मक क्षमता है 
एक दर्शक पर्दे के पीछे एवं पर्दे पर दिखाए जाने वाले आकृतियों को किसी 
सुनिश्चित दृष्टिकोण से जानने समझने की प्रवृत्ति से प्राय मुक्त करा चुका 
होता है यही कारण है कि यह एक बहुत ज्यादा प्रभावशाली माध्यम के रूप में 
हमारे समक्ष आज उपस्थित है
भारत में सिनेमा की शुरुआत बीसवीं सदी से हुई शुरुआत में 
भारतीय सिनेमा की अंतर्वस्तु में गांव व उनकी समस्याओं 
को अच्छी तरह उजागर किया
1974 में श्याम बेनेगल की फिल्म “अंकुर” की प्रशंसा सभी ने 
कि यह फिल्म पूरी तरह ग्रामीण परिवेश की थी 
तथा वहां के प्रेम भाव को दिखाने में सक्षम थी
1970 से 80 के दशक के बाद हिंदी सिनेमा में एंग्री यंग मैन 
की शुरुआत हुई अमिताभ बच्चन राजेश खन्ना जैसे सुपरस्टार थे 
जिनकी कई फिल्मों ने यह बताया कि समाज में केवल प्रेम 
से काम नहीं चलता सामाजिक आर्थिक राजनीतिक 
परिदृश्य भी उतने ही आवश्यक होते हैं
90 के दशक के बाद जब भारत पर वैश्वीकरण का प्रभाव देखा गया
जिससे कई तरह के बदलाव भारत में आए जैसे खान-पान वेशभूषा 
बोली भाषा आदि यह सब बदलाव उस दौर की फिल्मों में दिखाया 
गया जैसे भारतीय सिनेमा मेंआइटम गीत की शुरुआत 1997 खलनायक फिल्म से हुई

हिंदी सिनेमा और तकनीकी

सिनेमैटोग्राफर (कैमरामैन)

कैमरा तथा कैमरामैन के बिना फिल्म नहीं बन सकती वह सभी कार्य जो कैमरे 
की तकनीकी से होते हैं जैसे कैमरा स्टैंड, फिल्म स्पीड, लेंस चुनाव ,फ्रेम 
कंपोजीशन ,कैमरा कोन आदि सभी कार्य कैमरामैन को आना अति आवश्यक है 
निर्देशक कैमरामैन और कलाकारों में अच्छी आपसी समझ होने की जरूरत होती है 
इसलिए ज्यादा निर्देशक चुनिंदा कैमरामैन को ही अपने साथ रखते हैं

लाइट व्यवस्था

लाइट अवस्था फिल्म तकनीकी पक्ष का एक महत्वपूर्ण अंग है 
हर सीन के अनुरूप लाइट व्यवस्था की जाती है इंडोर शूटिंग 
के लिए बड़े-बड़े पावर बल्ब की जरूरत होती है इसके अलावा 
बड़े-बड़े रिफ्लेक्टर का प्रयोग भी लाइट व्यवस्था के अंतर्गत किया जाता है

डबिंग

संपादन की अंतिम रूपरेखा के अनुसार साउंड रिकॉर्डिंग 
स्टूडियो में हर एक कलाकार से उनके संवाद कहलवाए जाते हैं 
इस प्रक्रिया को डबिंग कहते है शूटिंग के समय संवाद बोलने में 
यदि कोई कमी रह गई हो या उच्चारण में कोई गलती हुई हो तो 
डबिंग के समय उसे सुधारने अवसर मिलता है

साउंड इफेक्ट

डबिंग के बाद साउंड इफेक्ट का काम बाकी रहता है 
संवाद के अलावा फिल्मों में अनेक अन्य आवाज होती है 
जैसे जूते पहनकर चलने , बारिश की आवाज ,कांच के 
बर्तनों की आवाज, दरवाजा बंद करने का खुलने की आवाज 
यह सब स्पेशल साउंड इफेक्ट है जिसे निर्देशक अपनी 
जरूरत के हिसाब से प्रयोग करता है 

WATCH VIDEO